Sunday, July 1, 2012

आज भी परेशान है फक्कड़ बुड्ढा



(हमारे सबसे प्रिय जनकवि बाबा नागार्जुन को सादर समर्पित।)
आज भी परेशान है फक्कड़ बुड्ढा
तरौनी गांव के पीछे
मसान में
चिता की राख में
चिंगारी ढूंढता
मिला था फक्कड़ बुड्ढा
भावों की विह्वलता तो क्या
पराजय की छटपटाहट कहें
या दमा का दौरा !

Featured Post

'साक्षी है इतिहास' तथा अन्य चार कविताएँ

1.      साक्षी है इतिहास ( मार्टिन नीमोलर को समर्पित) जानता हूँ आप जहमत नहीं उठाएँगे अपनी सलीब पर टँगे रहने का लुत्फ बेग़...